व्यायाम योग VOIM YOGA
06/08/2021 By shiv3376 0

व्यायाम योग voim yoga

सामूहिक व्यायाम

सामूहिक व्यायाम

सामूहिक व्यायाम

व्यायाम योग VOIM YOGA

जब एक साथ अधिक लोग मिलकर एक रूपता के लिए व्यायाम करते हैं, तो वह सामूहिक व्यायाम कहलाता है। सामूहिक व्यायाम करने से सामूहिकता का भाव आता है,

1.मिलकर कार्य करने की शैली निर्मित होती हैं। सामूहिक व्यायाम ड्रम से, सीटी से, अथवा संगीत के साथ करने पर ज्यादा प्रभावी लगते हैं।

उपकरणों के साथ व्यायाम

उपकरणों के साथ व्यायाम

उपकरणों के साथ व्यायाम

जब कुछ उपकरणों के साथ सामूहिक व्यायाम किये जाते हैं, तो और भी अधिक सुन्दर लगते हैं, और संगीतमय व तालमय वातावरण बनता है। जैसे- लेजिम, डम्बल, दण्ड, चक्र आदि के साथ व्यायाम।

व्यायाम योग (Voim Yoga)

योग स्थिति दक्ष, मुट्ठी खुली हुई।

योग क्रमांक 1 व्यायाम-योग-voim-yoga

(i) बाँया पैर तथा दोनों हाथ सामने, हथेली आमने-सामने।

(ii). बाँया पैर बाँयी ओर हाथ बाजू में, हथेली जमीन की ओर।

(iii). क्रमांक 1 की स्थिति।

(iv). योग स्थिति (यही क्रिया दाँये पैर से)

योग क्रमांक 2 व्यायाम-योग-voim-yoga

(i). बाँया पैर बाँयी ओर हाथ कन्धों पर।

(ii). बाँये पैर से दाँया पैर मिलाना, हाथ ऊपर

(iii). दाँया पैर दाँयी ओर हाथ कन्धों पर।

(iv). योग स्थिति (यही क्रिया दाँये पैर से)

योग क्रमाक 3 व्यायाम-योग-voim-yoga

(i). बाँया पैर बाँयी ओर हाथ प्रणाम की स्थिति में सीने पर।

(ii). घुटनों से नीचे दबना।

(iii). ऊपर उठना ।

(iv). योग स्थिति (यही क्रिया दाँये पैर से)।

योग क्रमांक 4 व्यायाम-योग-voim-yoga

(i). बाँया पैर बाँयी ओर, हाथ बाजू में।

(ii). बाँयी ओर मुड़कर दाहिना पैर मिलाते हुये ताली बजाना।

(iii). दाँया पैर दाँयी ओर हाथ बाजू में।

(iv). स्थिति (यही क्रिया दाँये पैर से)।

विशेष

दण्ड एवं चक्र के साथ भी इस प्रकार व्यायाम योग किये जा सकते हैं।

तिष्ठ योग

तिष्ठयोग स्थिति बैठकर हाथ मुट्ठी बन्दकर, घुटनों पर रखना।

योग क्रमांक 1

(i). दोनों हाथ आगे (हथेली आमने-सामने)

(ii). दोनों हाथ ऊपर सीधे

(iii). क्रमांक 1 की स्थिति।

(iv). योग स्थिति।

योग क्रमांक 2

(i). दोनों हाथ कन्धों पर, कोहनी बाजू में रहेगी।

(ii). दोनों हाथ ऊपर।

(iii). क्रमांक 1 की स्थिति।

(iv). योग स्थिति।

योग क्रमांक 3

(i). दोनों हाथ बाजू में।

(ii). दोनों हाथ जोड़कर नमस्कार की स्थिति में।

(iii). क्रमांक 1 की स्थिति।

(iv). योग स्थिति।

योग क्रमांक 4

(i). दोनों हाथ बाजू में।

(ii). ऊपर दो बार ताली बजाना।

(iii). क्रमांक 1 की स्थिति।

(iv). योग स्थिति।