susya namaskar ke fayde
19/07/2020 द्वारा shiv3376 0

susya namaskar ke fayde

 

susya namaskar ke fayde

susya namaskar ke fayde

सूर्यनमस्कार को 12 योग आसनों को  मिला कर बनाया गया है इस आसन का अपना अलग ही महत्व है इससे करने वाले लोग  हमेंसा  स्वस्थ रहते हैं।  साथ ही उनके शरीर में रक्त  का संचार  सही तरीके से होता  है।  एवं सूर्य नमस्कार करने से शरीर लचीला तो रहता ही है साथ ही अन्दर और बाहर दोनों तरह से स्वस्थ और मजबूत रहता है।

susya namaskar ke fayde 

 सूर्य नमस्कार के नियमित अभ्यास से मांसपेशियां एवं हड्डियां लचीली बनी रहती है।  जिसमें सबसे ज्यादा रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाने का  योगदान होता है। 

 दोस्तों हम आपको बता दें सूर्य नमस्कार आप एकांत में जाकर केवल अपने हाथ पैरों से ही कर सकते हैं।  सूर्य नमस्कार का सबसे ज्यादा लाभ  सुबह के समय करने से होता है।  सूर्य नमस्कार से मन भी शांत रहता है एवं शरीर लचीला बना रहता है और सूर्य नमस्कार के अनेकों फायदे हैं   जो हम आपको इस लेख में बताएंगे 

शरीर को लचीला बनाता है :-

दोस्तों यदि आपके शरीर जकड़न रहती है. तो आपके लिए सूर्य नमस्कार बहुत ही कारगर साबित हो सकता है. सूर्य नमस्कार करने से शरीर एकदम लचीला बना रहता है. एवं यदि सूर्य नमस्कार तेजी से किया जाए तो सबसे महत्वपूर्ण व्यायाम सावित  होता है. शरीर को लचीला बनाने में सूर्य नमस्कार का विशेष महत्व होता है

पाचन तंत्र को दुरुस्त रखता है

सूर्य नमस्कार का नियमित अभ्यास करने से आप का पाचन तंत्र एकदम दुरुस्त रहेगा। इससे आप को भोजन बचाने में कोई भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।  एवं सुबह नित्य क्रिया के समय पेट भी ठीक से साफ होगा इससे आपका पेट हल्का बना रहेगा।  एवं तेजाबियत  एवं गैस की कोई समस्या नहीं होगी

वजन कम करने में सहायक

सूर्य नमस्कार एक ऐसा व्यायाम है जो आपके शरीर के प्रत्येक अंग पर असर करता है।  और शरीर की चर्बी को भी पिघलाने  में मदद करता है।  यदि आपके शरीर पर अधिक चर्बी है या आप मोटापे की तरफ बढ़ रहे हैं तो तत्काल सूर्य नमस्कार प्रारंभ कर दें।  यह आपके मोटापे  को बढ़ने से रोकेगा यदि आप पहले से मोटे हो चुके हैं तो आपका मोटापा भी कम करेगा। 

हड्डियों को मजबूत करता है

 विद्वानों ने कहा है कि सूर्य नमस्कार सुबह के समय किया जाए तो बहुत उपयोगी होता है।  उसका वैज्ञानिक कारण होता है सुबह के समय सूर्य का प्रकाश शरीर को विटामिन डी से भर देता है।  और विटामिन डी हड्डियों को मजबूत करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। सुबह की धूप में व्यायाम करने से आपके शरीर में विटामिन डी की पूर्ति होती  है और शरीर से जहरीले  पदार्थ पसीने के रूप में बाहर निकल जाते हैं

कब्ज दूर करता है

कब्ज का रोग पाचन तंत्र की गड़बड़ी के कारण होता है सूर्य नमस्कार करने से आप का पाचन तंत्र दुरुस्त रहता है ऐसे में आपको कब्ज जैसी बीमारी का सामना नहीं करना पड़ेगा एवं इससे आपका पाचन तंत्र भी दुरुस्त रहेगा सूर्य नमस्कार करते समय आपको आगे भी झुकना पड़ता है पीठ पर दबाव भी देना पड़ता है फिर सीधे खड़े रहकर दोबारा झुकना पड़ता है इससे आपके पेट के अंदर का तंत्र व्यायाम के मुद्रा में रहता है जिससे पेट की कब्ज खत्म हो जाती है और बवासीर का मुख्य कारण पेट की कब्ज ही है जब आपका पेट साफ रहेगा तो आपको बाबासीर जैसी बीमारी का भी सामना नहीं करना पड़ेगा

त्वचा को खूबसूरत बनाता है 

दोस्तों जैसा कि हमने बताया था कि सूर्य  नमस्कार सुबह के समय करने से ज्यादा लाभ  होता है . इसका  मुख्य कारण यह है कि सुबह की धुप से शरीर को  विटामिन डी भरपूर मात्रा में मिलता है।और हमारी त्वचा के लिए बिटामिन डी बहुत ही महत्बपूर्णहोता है   दूसरा शरीर में रक्त संचार सही प्रकार से होता है इससे आपकी त्वचा में निखार आता है एवं चेहरे पर चमक आती है चेहरे की झुर्रियां खत्म होती है। एवं बढ़ती उम्र में हड्डियां मजबूत रहती है

कौन लोग ना करें सूर्य नमस्कार

  •  गर्भवती महिलाएं सूर्य नमस्कार ना करें 
  • हर्निया के मरीज सूर्य नमस्कार ना करें इससे उन्हें परेशानी बढ़ सकती है
  •  जिनका ब्लड प्रेशर हाई रहता है बे अपने  डॉक्टर से परामर्श ले 
  • जिनकी रीड की हड्डी में परेशानी है जैसे स्लिप डिस्क की प्रॉब्लम है एसे लोग  सूर्य नमस्कार ना करें

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है

सूर्य नमस्कार करने के लाभों में से एक लाभ यह भी है की है आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है क्योंकि जब आप सुबह के समय सूर्य नमस्कार करते हैं तब आपके संपूर्ण शरीर में शुद्ध वायु का संचार होता है एवं पूरे शरीर में रक्त संचार भी दुरुस्त रूप से होता है इससे आपके फेफड़ों की शक्ति भी बढ़ती है एवं विषैले पदार्थ पसीने के रूप में बाहर निकल जाते हैं

बालों का झड़ना रोकता है

सूर्य नमस्कार करने से त्वचा में चमक आती है साथ ही बाल गिरना कम हो जाते हैं सूर्य नमस्कार से मस्तिष्क तक शुद्ध वायु एवं शुद्ध रक्त पहुंचता है एवं बालो की जड़ो तक रक्त संचार दुरुस्त होता है .इससे बालों का गिरना काफी हद तक कम हो जाता है एवं बाल बढ़ना शुरू हो जाते हैं और मोटे घने भी हो जाते हैं 

कील मुहांसों को रोकता है

जैसा कि हम जानते हैं कि युवावस्था में कील मुहांसों का प्रकोप अधिक होता है ऐसे में यदि ध्यान ना दिया जाए तो चेहरे की रौनक ही बिगड़ जाती है हम सलाह देते हैं कि युवावस्था में सूर्य नमस्कार अवश्य करना चाहिए इससे आपके रक्त की अशुद्धियां खत्म होती हैं यह आप का रक्त शुद्ध रहता है जिससे कील मुंहासे का प्रकोप नहीं होता

सूर्य नमस्कार के लाभ

निष्कर्ष यह निकलता है कि सूर्य नमस्कार अपने आप में ही संपूर्ण व्यायाम है यदि इस को मध्यम गति से किया जाता है तो यह योगा प्राणायाम है और ऐसे तीव्र गति से किया जाए तो यह संपूर्ण शरीर का व्यायाम है यदि आप नियमित रूप से व्यायामशाला अर्थात जिम जाते हैं तब भी आपको सूर्य नमस्कार करने की सलाह दी जाती है सूर्य नमस्कार से आप के शारीर की मस्पेशियाँ लचीली बनी रहती हैं और यह आपके लिए एक प्रकार का वॉर्मउप का कार्य करेगा